Success Story: दोस्तों ने किया ऐसा मोटिवेट, जो काम 4 साल में न हुआ वो 17 दिन में कर दिखाया

IPS Officer Akshat Kaushal साल 2017 के बैच के आईपीएस ऑफिसर है। सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि Akshat ने UPSC की तैयारी महज 17 दिनों मे की थी। और परिक्षा पास कर 55वीं रैंक भी हासिल कर ली। 
 
ips akshit

Newz Fast, Success Story: संघ लोक सेवा आयोग देश की ऐसी सबसे मुश्किल परिक्षा है जिसमें हर साल लाखों युवा भाग लेते है लेकन उनमें से कुछ ही इसे पास कर पाते है और अपने सपने को पूरा कर पाते है। 

कुछ उम्मीदवार तो अपने सपने को पूरा करने के लिए दिन-रात एक करके पढ़ाई करते है लेकिन फिर भी पास नही हो पाते और अपनी हिम्मत हार कर अपने पुलिस अधिकारी बनने के सपने को छोड़ देते है। 

लेकिन आज हम जिस IAS Officer के बारे में बात करने जा रहे हैं उन्होने मात्र 17 दिन तक पढ़ाई करने के बाद भी अपने इस सपने को पूरा कर दिखाया। और उनका कहना है कि इसके लिए उनके दोस्तों ने उन्हे मोटिवेट किया था।  

2012 में शुरू की थी परीक्षा की तैयारी

Akshat Kaushal ने साल 2012 में यूपीएससी परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी थी और साल 2013 में सिविल सेवा की पहली परीक्षा दी, लेकिन सफलता नहीं मिली। 

अक्षत का असफलता का ये सिलसिला चार साल तक चला, लेकिन उन्‍होंने हार नही मानी। उन्‍होंने और ज्यादा मेहनत की और 5वें प्रयास में सफलता मिली, लेकिन इस सफलता में उनके दोस्‍तों का भी हाथ था। 

दोस्‍तों से मोटिवेट होकर 17 दिनों में बने IPS 

अक्षत कौशल लगातार UPSC की  परीक्षा में असफल हुए। वे चौथे अटेंप्ट में असफल होने के बाद सिविल सर्विस की तैयारी नहीं करना चाहते थे, लेकिन परीक्षा के कुछ दिन पहले ही वे अपने दोस्तों से मिलने गए।

जहां उनके दोस्‍तों ने उन्‍हें समझाया और मोटिवेट किया, उसके बाद तो वे परीक्षा की तैयार में लग गए और सिर्फ 17 दिन की पढ़ाई में उन्‍होंने साल 2017 में यूपीएससी में 55वीं रैंक हासिल की। ये उनका 5वां अटेम्‍प्‍ट था। 

अक्षत ने दी कौशल बढ़ाने की नेक सलाह  

आईपीएस अक्षत कौशल उम्मीदवारों को उनकी गलतियों से सबक सीखने के बारे में बताते हैं। अगर आप भी UPSC या कोई स्टेट सिविल सर्विस एग्जाम की तैयारी कर हैं तो आपको उनकी बताई गई बातों पर ध्‍यान देना चाहिए। 

एग्‍जाम देने से पहले आपको उसका नेचर यानी सिलेबस को अच्‍छे तरीके से समझ लेना चाहिए। किसी न किसी सब्‍जेक्‍ट पर आपकी मास्‍टरी होगी, इसका ये मतलब नहीं हैं कि आप उस सब्‍जेक्‍ट को लेकर ओवर कॉन्फिडेंट हो जाएं।

परीक्षा की तैयारी के दौरान दोस्‍तों से और सीनियर्स से सलाह लें। 

अपनी स्ट्रेंथ को कमजोरी न बना लें। हम कई बार किसी सब्‍जेक्‍ट को लेकर इतना श्‍योर हो जाते हैं कि उस विषय पर ध्‍यान देना ही बंद कर देते हैं, जोकि गलत है।

कई बार हम अपनी तरफ से पूरी तैयारी करते हैं उसके बावजूद भी कुछ चीजें हमारे पक्ष में नहीं होती हैं, ऐसे में हमें कुछ चीजें किस्मत पर छोड़ देना चाहिए, कुछ समय बाद मेहनत के साथ फिर से तैयारी में जुट जाना चाहिए।