Success Story: पिता है सिपाही, बेटी ने पास किया UPPSC, 31वीं रैंक हासिल कर बढ़ाया घरवालों का मान

चित्रा निर्वाल ने पहली बार में ही UPPSC की परिक्षा पास कर के अपने पिता का नाम पूरे देश में रोशन कर दिया। चित्रा के पिता एक सिपाही के पद पर कार्यरत है। चित्रा टॉप 10 में आने वाली दूसरी महिला है। 
 
chittra nirwal

Newz Fast, Success Story: उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग के रिजल्ट बुधवार को जारी किए गए थे। इसके साथ ही 627 उत्तीर्ण विद्दार्थियों में से टॉप 10 कैंडिडेटस की लिस्ट भी निकाली गई थी। 

जिसमें 2 महिलाओं का नाम भी शामिल था। इनमें से एक महिला यूपी को के बिजनौर जिले की रहने वाली है जिसका नाम चित्रा निर्वाल है। चित्रा ने UPPSC की परिक्षा में 31वीं रैंक हासिल कर अपना और अपने घरवालों का नाम पूरे देश में रोशन किया है। 

शीर्ष 10 सफल अभ्यर्थियों में उन्नाव की सौम्या मिश्रा (25) और उत्तराखंड के देहरादून की रहने वाली मल्लिका नैन (27) हैं। सौम्या ने महिलाओं की कैटिगरी में पहला स्थान हासिल किया है। 

टॉप 10 में दो अभ्यर्थी सबसे कम उम्र के हैं और उनमें एक सौम्या मिश्रा भी हैं। ट़प 10 की लिस्ट में मल्लिका नैन ने 10वां स्थान हासिल किया है।

सिपाही की बेटी ने पहले ही प्रयास में पाई सफलता

हम बात कर रहे हैं बिजनौर के PAC के सिपाही की बेटी चित्रा निर्वाल की। चित्रा ने UPPSC परीक्षा 2021 पास कर 31वी रैंक लाकर जनपद का नाम रोशन किया है। चित्रा की सफलता पर परिवार समेत पूरे गांव में खुशी की लहर है।

चित्रा ने यहां से की प्रारंभिक पढ़ाई

थाना नहटोर के मुदफरा गांव के बरन सिंह की बेटी चित्रा निर्वाल ने अपनी प्रारम्भिक पढ़ाई नहटोर के ऑक्सफ़ोर्ड पब्लिक स्कूल से पास की है। साल 2020 मे जिला सुल्तानपुर से बीटेक की पढ़ाई पास की। 

उसके बाद चित्रा का मन प्रशासनिक सेवा मे जाने का हुआ।  उन्होंने PCS परीक्षा की तैयारी शुरू की और साल 2021 मे UPPSC परीक्षा के पहले ही प्रयास मे 31वी रैंक हासिल की।

जिले का नाम किया रोशन 

चित्रा निर्वाल ने अपनी इस सफलता का श्रेय माता-पिता और नाना-नानी को दिया है। चित्रा का ननिहाल बिजनौर के झलरा गांव का है। चित्रा अपनी छुट्टियां अपनी ननिहाल मे ही बिताती हैं।

फिलहाल चित्रा मेरठ मे रहकर कोचिंग कर रही हैं। चित्रा जानवरों और बच्चों से बहुत प्यार करती है और उनके लिये कुछ करना चाहती हैं।