IES Story: 8 बार हाथ लगी असफलता, नौवें प्रयास में बैकबेंचर बना IES

कई यूपीएससी की परिक्षा की तैयारी करने वाले उम्मीदवार परिक्षा में एक या दो बार फेल होने पर अपनी परिक्षा की तैयारी छोड़ कर हार मान लेते हैं। लेकिन आज की कहानी एक ऐसे ऑफिसर की है जो 8 बार परिक्षा में फेल हो गया और 9वें प्रयास में  पास हुआ। 
 
ies vaibhav

Newz Fast, Success Story: आज की कहानी आपको बेहद  हैरान कर देगी। हर साल UPSC की परिक्षा में लाखों उम्मीदवार हिस्सा लेते है लेकिन उनमें से कुछ ही ऐसे उम्मीदवार है जो इस परिक्षा को पास करने में सफल होते है। 

दिल्ली के रहने वाले वैभव छाबड़ा 8 बार अपनी परिक्षा मे असफल रहे और 9 वीं बार सफलता हासिल कर पाए। वैभव एक बैकबेंचर थे और पढ़ाई लिखाई में खास interest भी नही लेते थे। 

लेकिन फिर भी कुछ कर दिखाने के जज्बे की वजह से वे आज IES ऑफिसर है। वैभव ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था कि उन्होंने अपनी शुरुआती पढ़ाई दिल्ली से पूरी की है। 

हालांकि, उसके लिए पढ़ाई उतनी ही कठिन थी, जितना कि पहाड़ पर चढ़ना। उन्होंने कभी भी पढ़ाई में ज्यादा दिलचस्पी नहीं ली, यही वजह थी कि उनका प्रदर्शन हमेशा औसत रहा।

वैभव ने 5 साल में अपना बीटेक पूरा कर 56 फीसदी नंबर प्राप्त किए। बीटेक करने के बाद उन्होंने एक कोचिंग सेंटर में फिज़िक्स के टीचर के रूप में पढ़ाना शुरू किया। 

करीब 2 साल में उन्होंने महसूस किया कि वह इस नौकरी तक सीमित नहीं रह सकते। जिसके बाद उन्होंने आईईएस बनने के बारे में सोचा। वैभव ने अपने परिवार और कुछ दोस्तों को आईईएस बनने का फैसला बताया।

उस दौरान नौकरी छोड़ना उनके लिए एक बड़ी चुनौती के रूप में थी, लेकिन हिम्मत के साथ वैभव ने यह नौकरी छोड़ दी। उसके बाद उन्होंने बीएसएनएल में काम करना शुरू कर दिया। 

इस दौरान उनका सपना आईईएस बनने का था, जिसके चलते उन्होंने इस नौकरी को अलविदा भी कह दिया। वैभव का पढ़ाई में बिल्कुल भी मन नहीं लगता था। 

तैयारी के दौरान वैभव मुश्किल से एक घंटा ही पढ़ पाते थे। इसलिए उन्होंने हर आधे घंटे के बाद 15 मिनट का ब्रेक लेना शुरू किया। इस विधि से धीरे-धीरे पढ़ाई का समय बढ़ने लग गया।