IAS Success Story: IAS बनने के लिए रही 2 साल के बेटे से दूर, दुसरे प्रयास में हुई सफल

अनु पहले नौ साल तक नौकरी करती थी पर फिर बाद मे अनु ने आईएएस बनने का सोचा। जब अनु की शादी हो गई तो वे अपने पति के साथ गुरूग्राम मे रहने लगी। अपने सपने को पूरा करने के लिए अनु ने अपने 2 साल के बच्चे को खुद से दूर रखा।
 
ias anu kumari

Newz Fast, Success Story: IAS Anu Kumari हरियाणा के सोनीपत की रहने वाली है लेकिन जब उनकी शादी हो गई तब अनु अपने पति के साथ गुरूग्राम में रहने लग गई।

अनु अपनी मेहनत से दूसरे प्रयास में UPSC की परिक्षा को पास कर IAS Officer बन गई। अनु ने सबको ये साबित कर के दिखाया की कितनी भी मुश्किलें क्यों ना आए

अगर हम अपने सपने को पाने के लिए मेहनत करते है तो हम हर मुश्किल को आसान कर सकतें है ऐ सफलता को हासिल कर सकते है। अनु कुमारी की पूरी सक्सेस स्टोरी पढ़ें...

आईएएस अनु कुमारी का जन्म 18 नवंबर 1986 को हरियाणा के सोनीपत में हुआ था। उनके पिता का नाम बलजीत सिंह और मां का संतरो देवी है।

अनु कुमारी की एक छोटी बहन और दो भाई भी हैं। अनु कुमारी अपनी पढ़ाई-लिखाई को लेकर काफी गंभीर थीं। उन्होंने अच्छे संस्थानों से शिक्षा हासिल की है।

आईएएस अनु कुमारी ने सोनीपत के शिव शिक्षा सदन से शुरुआती पढ़ाई की है। उसके बाद उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदू कॉलेज से फिजिक्स में बीएससी ऑनर्स की डिग्री हासिल की।

पढ़ाई का उनका सफर यहीं नहीं थमा। ग्रेजुएशन की डिग्री लेने के बाद उन्होंने आईएमटी नागपुर से एमबीए किया। आईएएस अनु कुमारी एमबीए करने के बाद मुंबई में स्थित ICICI बैंक की ब्रांच में नौकरी करने लगी थीं।

साल 2012 में गुरुग्राम के बिजनेसमैन वरुण दहिया से उनकी शादी हो गई थी। शादी के बाद अनु भी गुरुग्राम शिफ्ट हो गई थीं। लगभग 9 साल तक नौकरी करने के बाद अनु ने प्रशासनिक सेवा की तैयारी शुरू की थी।

साल 2016 में वह पहली बार परीक्षा में शामिल हुई थीं। तब उनके बड़े भाई ने उनकी जानकारी के बगैर यूपीएससी परीक्षा का फॉर्म भर दिया था।

सरकारी नौकरी की परीक्षा की तैयारी के दौरान अनु कुमारी का बेटा सिर्फ 4 साल का था। उसके साथ यूपीएससी परीक्षा की तैयारी कर पाना मुश्किल था।

इसलिए उन्होंने दो सालों के लिए अपने बेटे को खुद से दूर अपनी मां के पास भेज दिया था। साल 2017 में अनु कुमारी ने अपने दूसरे प्रयास में यूपीएससी परीक्षा पास कर ली थी। इसमें उन्होंने दूसरी रैंक हासिल की थी। अनु फिलहाल केरल कैडर में तैनात हैं।