IAS Story: मां की मौत के बाद पिता ने थामा बेटी का हाथ, देश की लड़कियों के लिए है मिसाल

अंकिता ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन में केमेस्ट्री पढ़ती थी। अंकिता की मां की जान एक एकसीडेंट में चली गई थी। अंकिता के पिता ने अपनी बेटी का हाथ थामा उसका हौंसला बने और आज अंकिता IAS Ankita Chaudhary बन गई है। आईए जानते है अंकिता की लाइफ स्टोरी 
 
ias  ankita

Newz Fast, Success Story: अंकिता हरियाणा के रोहतक जिले की रहने वाली है। अंकिता देश की सबसे खूबसूरत IAS ऑफिसर्स में से एक है। 

अंकिता एक छोटे से कस्बे में रहती है। लेकिन अंकिता दिखने में किसी हिराोईन से कम नही है। अंकिता अपनी पहली परिक्षा में फेल हो गई थी लेकिन अंकिता ने जब दूसरी बार 

UPSC की परिक्षा दी तब अंकिता का 14th रैंक आया था। जिसके बाद वे अपने इंटरव्यू में सफल होने के बाद IAS ऑफिसर बन गई। अंकिता अपनी मां की मौत के बाद पूरी तरह टूट चुकी थी। 

अंकिता अपनी हिम्मत को पूरी तरह खो चुकी थी लेकिन फइर उनके पिता ने उनका हाथ थामा उनकी हिम्मत बने और उनके सपनों को उड़ान भरने के लिए पंख दिए। 

जिसका ये रिजल्ट है कि आज वे देश की सभी लड़कियों के लिए एक मिसाल कायम कर चुकी है। अंकिता चौधरी के पिता सत्यवान चीनी मिल में अकाउंटेंट हैं और मां हाउस वाइफ। 

उनकी 12वीं तक की पढ़ाई रोहतक के स्कूल से हुई। ग्रेजुएशन के लिए उन्होंने दिल्ली के हिंदू कॉलेज में एडमिशन लिया। केमेस्ट्री में ग्रेजुएशन के दौरान ही उन्होंने संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा की तैयारी का प्लान बनाया फिर पोस्ट ग्रेजुएशन करने लगीं। 

मास्टर डिग्री कंप्लीट होने के बाद वे इस परीक्षा में कड़ी मेहनत करने लगीं। अंकिता की तैयारी चल रही थी, इसी बीच एक दिन उनके लिए बुरी खबर आई। 

उन्हें पता चला कि सड़क हादसे में उनकी मां की मौत हो गई है तो वे खुद को संभाल ही नहीं पाईं। ऐसा लगा सपने ही बिखर गए लेकिन इस दौरान उनके पिता उनका हौसला बने और बेटी को तैयारी करने की प्रेरणा दी।

ग्रेजुएशन और पोस्ट ग्रेजुएशन में केमेस्ट्री पढ़ने वाली अंकिता जब यूपीएससी की तैयारी में जुटीं तो उन्होंने पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन को ऑप्शनल सब्जेक्ट चुना। 

साल 2017 में उन्होंने पहली बार एग्जाम दिया लेकिन जब रिजल्ट आया तो उसमें उनका नाम नहीं था। इससे अंकिता की तैयारी में कोई कमी नहीं आई बल्कि वे और ज्यादा मेहनत करने लगीं। 

फिर साल 2018 में उन्होंने सेकेंड अटेम्प्ट की परीक्षा दी, इस बार उन्होंने न केवल देश की सबसे कठिन परीक्षा पास की बल्कि टॉपर बनकर सामने आईं।

अंकिता यूपीएससी की तैयारी कर रहे स्टूडेंट्स के लिए कहती हैं कि उन्हें सिर्फ पढ़ाई पर ही नहीं अपनी हॉबी पर फोकस करना चाहिए। पढ़ाई के बीच-बीच में हॉबी को समय देने से कैंडिडेट्स मेंटली स्ट्रॉन्ग होते हैं 

और उनका दिमाग फ्रेश रहता है। जब पेपर का आखिरी समय आए तब खूब रिवीजन करें। पेपर के एक दिन पहले अच्छी नींद लें और टेंशन फ्री होकर एग्जाम दें। इससे सक्सेस होने के चांसेस बढ़ जाते हैं।