IAS: अपनी गलतियों से सीखा, दूसरे अटेंप्ट में क्लियर किया UPSC

IAS Officer Kanchan अपनी सालों की मेहनत के बाद UPSC की परिक्षा को क्रेक कर पाई। अपने पहे प्रयास में कंचन असफल रही। कंचन कहती है कि अगर आप इस परिक्षा को पास करना चाहते है तो अपना पूरा ध्यान अपने सिलेबस पर दें। 
 
ias kanchan

Newz Fast, Success Story: UPSC की परिक्षा एक ऐसी परिक्षा है जिसे पास कर पाना हर किसी के बस की बात नही होती है। इसे पास करने के लिए कई उम्मीदवारों को तो सालों की मेहनत लग जाती है और कुछ उम्मीदवार पहली बार में ही पास कर लेते है। 

आज की कहानी आईएएस कंचन के बारें में है। कंचन अपने पहले प्रयास में सफल नही हो पाई थी। कंचन बताती है कि उन्होने अपनी गलतियों से सीखा है। 

कंचन हरियाणा के सिरसा की रहने वाली है। कंचन ने भी इसी तकनीक को अपनाया और यूपीएससी परीक्षा में बहुत ही कम उम्र में अपने दूसरे प्रयास में ऑल इंडिया रैंक 35 लाकर IAS बनीं।

कंचन को पहले ही प्रयास में UPSC CSE की परीक्षा में सफलता मिल गई थी, लेकिन कंचन पहले प्रयास में मिली रैंक से संतुष्ट नहीं थीं और उन्होंने फिर से प्रयास किया। 

आखिर में, अपने दूसरे प्रयास में कंचन ने यूपीएससी परीक्षा में 35 वीं रैंक के साथ टॉप किया। इसके साथ ही उन्हें अपनी मनमर्जी से आईएएस पद मिला, जिसके लिए वह बचपन से ही उत्सुक थीं। 

कंचन हमेशा से IAS बनना चाहती थी। यह परीक्षा देने से पहले, वह जरूरी पढ़ाई पूरी करना चाहती थी। कंचन तैयारी के बारे में कहती हैं कि सबसे पहले सिलेबस पर पूरा ध्यान दें। 

वह सिलेबस को इतना जरूरी मानती हैं और सलाह देती हैं कि यदि संभव हो तो उसे याद रखना चाहिए। इसके बाद, एक और जरूरी पॉइंट पर आएं और वह है स्ट्रेटजी बनाना। 

इसके लिए कंचन की राय है कि इंटरनेट से या जहां से भी आप दूसरों की स्ट्रेटजी देखना चाहते हैं या गाइडेंस लेना चाहते हैं, IAS बनने के लिए अपनी यूपीएससी की तैयारी अपने मुताबिक करें, यानी अपनी स्ट्रेटजी खुद के मुताबिक बनाएं और किसी और के मुताबिक नहीं।

कंचन की शुरुआती पढ़ाई सिरसा में हुई और बाद की पढ़ाई के लिए वे चंडीगढ़ चली गईं। 12 वीं के बाद कंचन दिल्ली चली गईं और वहां लॉ यूनिवर्सिटी से लॉ में ग्रेजुएशन किया।

ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी करने के तुरंत बाद, कंचन ने यूपीएससी सीएसई परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी। चूंकि कंचन ने लॉ में ग्रेजुएशन किया था और यह उनका पसंदीदा सब्जेक्ट था, इसलिए उन्होंने यूपीएससी में भी अपना ऑप्शनल सब्जेक्ट लॉ रखा।