Bahraich: पिता था DM का ड्राईवर, बेटा 40वीं रैंक हासिल कर बना SDM

बहराइच जिले के रहने वाले राजीव शर्मा नें UP PCS की परिक्षा पास कर अपने पिता का मान बढ़ाया है। राजीव के पिता जिलाधिकारी के ड्राईवर है और राजीव अपनी मेहनत से SDM बन चुकें है। 
 
sdm rajiv sharma

Newz Fast, Success Story: UP PCS की परिक्षा देश की सबसे मुश्किल परिक्षाओं में से एक है। इसे पास करने के लिए उम्मीदवारों को बहुत मेहनत करनी पड़ती है। 

हर कैंडिडेट का सपना होता है कि वह परिक्षा को पास कर अपने घरवालों का नाम रोशन करें। आज की कहानी एक ऐसे शख्स के बारे में है जिसके पिता जिलाधिकारी के ड्राईवर है 

और वह अपनी मेहनत से SDM बन गया है। अपनी सफलता से राजीव ने अपने पिता का सिर गर्व  से ऊँचा कर दिया। आइए जानते है राजीव की पूरी कहानी..

बहराइच  के जिलाधिकारी के ड्राइवर के बेटे हैं कल्याण

आपको बता दें कि बहराइच जिले के थाना फखरपुर थाना क्षेत्र के केतारपुरवा तखवा गांव निवासी कल्याण सिंह मौजूदा समय में एनटीपीसी (NTPC) मे सहायक प्रबंधक पद पर सोलापुर मुंबई में कार्यरत हैं। 

कल्याण की मां का निधन तकरीबन 5 साल पहले हुआ था।  उनके पिता जवाहर लाल मौर्य बहराइच के जिलाधिकारी के ड्राइवर हैं, चतुर्थ श्रेणी के कमर्चारी पद पर रहते हुए अपने बेटे को अफसर बनाने का सपना संजोया हुआ था।

अब उनका सपना साकार हो गया है। PCS की परीक्षा के परिणाम में कल्याण सिंह मौर्य का नाम 40वीं रैंक में आ गया। बेटे के SDM बनने की ख़बर पाते ही पिता की आंखों में खुशी के आंसू छलक पड़े।

यहां से हुई पढ़ाई

पिता के परिश्रम और कल्याण की लगन और मेहनत, पढ़ाई के प्रति रूचि से ये सब संभव हुआ है। कल्याण सिंह की प्रारंभिक पढ़ाई बहराइच से हुई है।  

इंटर के बाद की पढ़ाई बीएचयू बनारस में हुई। इसके बाद दिल्ली आईआईटी कालेज मे एमएससी करने चले गए, वहीं से एनटीपीसी में नौकरी लग गई।

नौकरी करने के साथ ही पीसीएस की परीक्षा पास कर प्रशासनिक सेवा में जाने का जुनून था। अपनी लगन और मेहनत के बल पर कल्याण सिंह ने यह मुकाम भी बुधवार को हासिल कर लिया।

सफलता का पूरा श्रेय पापा, मां व बड़े भाई संजय सिंह मौर्या व गुरुजनों को दिया

पीसीएस का परीक्षा परिणाम निकला तो परिवार में जश्न का माहौल बन गया। ओबीसी कैटेगरी में 40वीं रैंक पाकर कल्याण सिंह एसडीएम के पद पर चयनित हुए। 

कल्याण अपनी सफलता का पूरा श्रेय अपने पापा, मां व बड़े भाई संजय सिंह मौर्या व गुरुजनों को दे रहे हैं। गौरतलब हो कि कल्याण के बड़े भाई संजय सिंह नोयडा मे कंप्यूटर इंजीनियर पद पर कार्यरत हैं।