Exam: UPPSC पास करने के बाग इन पदों पर कर सकते है नौकरी, जानें...

PCS करने के बाद Students सरकारी नौकरी करने के लायक हो जाते है। इस परिक्षा को पीस करने वाले लोगों को उतरप्रदेश में बड़े पदों पर नौकरी के लिए चुना जाता है। अगर आप भी UPPSC PCS पास कर चुके है तो आपके लिए ये जानना बेहद जरूरी है कि इसके बाद आपको क्या करना चाहिए। 
 
uppsc

Newz Fast, New Delhi: हर साल लगभग लाखों लोग UPPSC PCS की तैयारी करत है, लेकिन हर कोई इसमें सफल नही हो पाता।

कुछ लोग अपनी कड़ी मेहनत से इसे पास तो कर लेते है लेकिन इसके बाद क्या करना चाहिए वे इस बात का फैसला नही कर पातें है। UPPSC PCS की परिक्षा पास करने पर Students सरकारी नौकरी करने के काबिल हो जाते है।

UPPSC PCS की परिक्षा का पैटर्न लगभग UPSC की परिक्षा जैसा ही होता है। यह परिक्षा तीन चरणो में होती है। पहले प्रीलिम्स, मेंस और फिर इंटरव्यू। इसके बाद अभ्यर्थी को सरकारी नौकरी के लिए चुना जाता है। 

UP PSC Exam Pattern

UP PSC की पहली परिक्षा (prelims) में Total 150 सवाल पुछे जाते है। हर एक सही जवाब के लिए 1.33 अंक दिए जाते है। अगर कोई जवाब  गलत होता है तो उसके लिए 0.45 माकर्स काटे जातें है।

प्रील‍िम्स की दुसरी परिक्षा CSAT में कुल 100 सवाल पुछे जाते है जिसमें सही जवाब देने पर 2 नंबर दिए जाते है। गलत जवाब देनें पर 0.66 अंक काटे जाते है। 

UPPSC PCS Exam के लिए योग्यता 

जो भी उम्मीदवार UPPSC PCS की परिक्षा में शामिल होते है उनके लिए कुछ योग्यता मानदंड निर्धारित किए गए है। इस परिक्षा के लिए उम्मीदवार की आयु 21 से 40 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

आवेदन के हासिल होने तक उम्मीदवार के पास मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री या समकक्ष योग्यता होनी आवश्यक है।  

किन पदों के लिए किए जाते है नियुक्त 

UPPSC में पास आउट होने वाले उम्मीदवारों को इन पदों पर नियुक्त किया जाता है। 

1-SDM

2-RTO Officer

3- Range Forest Officer

4- District Excise Officer

5- Block Education Officer

6-Assistant Prosecution Officer
 
7-Assistant Conservator Of Forest

नोट करने योग्य बातें 

1. प्रीलिम्स परिक्षा एक क्वालिफाइंग परिक्षा होती है। इसमें अभ्यर्थी को 33% अंक प्राप्त करने होते है। 

2.प्रीलिम्स परिक्षा की दोनों  परिक्षाओं में अभ्यार्थी को उपस्थित होना जरुरी है। 

3. उममीदवार की योग्यता प्रारंभिक परीक्षा के पेपर-1 में हासिल किए गए मार्कस के आधार पर होती है।